KAVITA BY Mithilesh Rai ( Mahadev )

–       – जब कभी!

जब कभी तुझको देखता है कोई!
बेचैनियों के आलम से गुजरता है कोई!
बचेगा किसतरह तड़पना किसी निगाह का?
लरजते धूप सी तपन से पिघलता है कोई!

Leave a Reply

Your email address will not be published.