#Muktak by Lovelesh Dutt

शब्दों के अलंकरण से कविता नहीं बनती। बड़े कवि के अनुकरण से कविता नहीं बनती।। “शीश उतारे भुईं धरे” का

Share This
Read more

#Kavita by Tej vir Singh Tej

ब्रज वन्दन मनमोहक मनभावन मुरली, मधुबन में मनवा मोहे। स्याम सलोना सरल सुलक्षण,सखन सङ्ग सुंदर सोहे। निरखें नैन निरन्तर-निसदिन,नूतन नीकी

Share This
Read more

#Haiku by Dr. Yasmeen Khan

हाइकु’ आत्मीय स्पर्श रूह भी महकाये जीवन भर। ———–///—-/// नई रीतियां चमकते से लोग जल्दी खींचते। ————///// अपनापन तिरछी चितवन

Share This
Read more

#Kavita by Adil Sarfarosh

नेताजी जिंदाबाद  (गीत) हम तो ठहरे नेता जी जब सरकार में आयेंगे गाँधी-नेहरु के सपनों को ख़ाक में मिलायेंगे मिलने

Share This
Read more

#Lekh by Dr. Arvind Jain

अमेरिका  स्वर्ग या नरक —-डॉक्टर अरविन्द जैन भोपाल – ———————————————————————- हर व्यक्ति अपने घर को अपना घर कहता हैं जब

Share This
Read more