#Kavita|Ved Pal Singh

भारत में नोट-बंदी का पचड़ा………………….. सिर्फ़ नोट-बंदी की बात होती तो शायद कोई पचड़ा नही होता, राजनीति का खेल नही होता तो शायद कोई झगड़ा नहीं होता। काग़ज़ की क्या औक़ात भला जब सोना चाँदी नहीं टिक सके, ताम्बा पीतल गिलट और अल्यूमिनियम वो भी ना धिक सके। प्लास्टिक-ओ-कम्प्यूटर पहले होते तब शायद रगड़ा नहीं होता, राजनीति का खेल नही होता तो शायद कोई झगड़ा नहीं होता। कहते थे कि आजाद हम होंगे तो कोई…

Share This
"#Kavita|Ved Pal Singh"

#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

दुनिया के सारे ग़म को, दिल में समां लिया मैंने, एक फूल से दिल को भी, पत्थर बना लिया मैंने ! ये सोच कर कि शायद मुकद्दर कभी तो जागेगा, जमाने की ख़लिश को भी, अपना बना लिया मैंने ! गुज़र जाता है खुशियों का उजाला बिना छुए मुझे, ये नसीब था कि अंधेरों को, अपना बना लिया मैंने ! कभी न भूल पाया मैं दिल से वो गुज़रे हुए लम्हात, मगर फिर भी इस…

Share This
"#Gazal by Shanti Swaroop Mishra"