Geet by Munish Bhatiya Ghayal

वाह मिली वाही मिली पर बीवी अनचाही मिली सोचा साली तो सुंदर है लेकिन वो भी ब्याही मिली साले की बीवी देखी तो कुछ दिल को सुकून मिला हाथ लगी निराशा यहां भी वो कहती हमको भाई मिली आंख में काजल लबों पे लाली खूबसूरती का ठोर नहीं मैं कहता उसको सासु मां वो कहती हमें जंवाई मिली आस नहीं छोड़ी हमने ओर तकने लगे पड़ोसन को किस्मत फूटी ये आस भी टूटी वो बीवी…

Share This
"Geet by Munish Bhatiya Ghayal"