#Kavita by Ishwar Dayal Jaisval

← मेरा  शहर→                                                     मेरा शहर !                                                                   इक्कीसवीं सदी में                                                            श्मशान बन गया है।                                                            शहर की पाश कालोनियों में                                                  अब इंसान

Share This
Read more

#Kavita by Vipul Sharma

देखना चाहता हूँ =========== देखना चाहता हूँ तुम्हे हर लम्हा हर घडी अनवरत देखना चाहता हूँ वो नेह मेरे लि़ये

Share This
Read more

#Kavita by Kavi Nadeem Khan

भ्रष्टाचारी,तानाशाही सारी बुराइयाँ मिटालो तुम महान बाद में बनना पहले मेरे देश को बचालो तुम जनता से किया वादे खोखले

Share This
Read more