#Kavita by Sanjay Verma

प्रदूषण के गुबार भौरे की निंद्रास्थली होती बंद कमल में उठाती  सूरज की पहली किरण  देती दस्तक खुल जाती आँखों  की

Read more