#Kavita by Ajeet Singh Avdan

स्मृति-भान ~~ सब को श्रीमन्नारायण जी, श्रीमन्नारायण सबको जी । वर्तमान में स्मृतियों के, विस्मृत नाम न हों अब तो

Read more

#Kavita by Ishq Sharma

मजदूर या मजबूर °°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°° वो रोज कमाता रोज खाता शान ओ शौकत नही दिखाता अपना हो या कोई पराया अपनी

Read more
Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.