#Kavita by Ishq Sharma

एकपैग़ाममाँकेनाम   सीने से लगा लेती है, आँचल में छुपा लेती है, पुचकारती बे’वक़्त मुझे, दुनिया मुझमें बसा लेती है,

Share This
Read more