#Kavita by Vinita Badmera

तुम   मैं तो निशदिन तुम्हारे  ही चेहरे को पढ़ना चाहती  हूँ। नहीं सीखना   चाहती    हूँ तुम्हारे अलावा कोई अक्षर।

Read more

#Kavita by Manoj Soni

दिलासो का सुन्दर चमन होतीं हैं बेटियां, सौगातों की खुशनुमा समन्दर होतीं हैं बेटियां, बड़े ही नसीब वाले होते हैं

Read more