#Kavita by Madhu Mugdha

रिश्तों के कैनवास पर दरकती हुयी तश्बीर इस कदर तन्हा कि लगता ही नहीं इन्हीं रिश्तों के दरार पर बैठकर

Read more
Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.