#Kavita by Madhu Mugdha

रिश्तों के कैनवास पर दरकती हुयी तश्बीर इस कदर तन्हा कि लगता ही नहीं इन्हीं रिश्तों के दरार पर बैठकर

Read more