#Kavita by Ishq Sharma

एक पैग़ाम ‘माँ’ के नाम “”””””””””””””””””””””””””””””””””””” माजी, अम्मा, आई, माँ, मेरी अपनी पुरवाई, माँ। “”””””””””””””””””””””””””””””””””””” पुचकारती  बे’वक़्त भी, वो कैसे

Read more

#Kavita by Kapil Jain

•••क्षणिकाएं•••••   1) बातो से तेरी.. रचना रच जाती है कविता लिखता मैं.. बाते कविता जैसी तुमको आती है…  

Read more