#Kavita by Alka Jain

झंडा ऊंचा रहे हमारा बिछोने पर नींद नहीं आती अर्थी बनवा दो यारो फूलों से काम नहीं चलेगा अंगारो पर

Share This
Read more