#Kavita by Shabnam Sharma

पिता कन्धे पर झोला लटकाए, खाना व पानी लिये, देख सकते दौड़ते-भागते पकड़ते लोकल ट्रेन, बसें। लटते-लटकाते, लोगों की दुतकार

Read more

#Kavita by Prerna

-‘बाबुल’   धीरे बोलो गुस्सा मत करो, मुस्कराते रहो ये सब तुम सिखा गये।   विद्या का ज्ञान संस्कारो का

Read more

#Kavita by Binod Kumar

चम्पकमाला छंद शिल्प:-(भगण, मगण, सगण,गुरु) आप हमारे पालक पापा, नेह करे हैं बालक पापा। दे अपना आशीष हमेशा, कौन भला

Read more

#Muktak by Sandeep Saras

बेबाक   अनचाहे   अनुबन्ध  मुझे  स्वीकार  नहीं।   प्रियता पर प्रतिबन्ध  मुझे स्वीकार नहीं।।   जो     अपना    लगता   है   अपना

Read more

#Kavita by Shyam Achal

मेरा निर्माता   वह चट्टानों को तोड़ता रहा बनाता रहा हमारे लिए रास्ते   अपने खून को निचोड़कर पसीना बनाकर,

Read more
Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.