#Muktak by Sandeep Saras

मुक्तक अंक में सागर के जाकर आज फिर दिनमान डूबा। फिर निशा के द्वार जाकर भोर का अभिमान डूबा। चन्द्रमा

Share This
Read more

#Kavita by Sudha Mishra

प्रदेश वहाँ डूबे नेता मस्ती में रिसाॅर्ट में खोये पाठ पढ़ाएँ देश भक्ति की गायें तड़प के बेहोश पड़ीं आश्चर्य

Share This
Read more

Tejvir Singh Tej

सगुण भक्ति शाखा (रामाश्रयी) के अप्रतिम काव्यपुंज बाबा तुलसीदास के जन्मोत्सव की अनंत मङ्गल कामनाएं। ** जाति-प्रथा सम्प्रदाय का था

Share This
Read more