#Kavita by Binod Kumar

जैसी करनी, वैसी भरनी —————————————– एक सेठजी गये शिवालय, पहन कर मँहगे जूते। खूब कमाया दौलत उसने, मेहनत के बलबूते।

Read more

#Kavita by Kirti

कहा गये वो बचपन की रंगरेलियो वाले दिन… याद आते है कथा कहानी परियों वाले दिन… माँ के हाथ के

Read more

#Muktak by Kavi Nilesh

जरिया ढूंढ लूं मैं भी बड़ी मुश्किल हालातों में सब्जी तीखा हो फिर भी मैं चटकारे लूं सलादों में घनघोर

Read more