#Kavita by Dharmender Arora

आंधियों की धुन पे’ गाती ज़िंदगी! दीप हिम्मत के जलाती  ज़िदगी!! *************************** वक्त की सरगोशियों के साज़ पर! दिलनशीं नगमे

Read more

#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

हारते हैं वही, जो कि दिल से हार जाते हैं ! टूटते हैं वही, जिनको अपने मार जाते हैं ! ज़िंदगी की डगर पे ज़रा ईमान से चलिए, इसके बिना तो लोग, इज़्ज़त उतार जाते हैं ! न बदलिए राहें कि मंज़िल ही छूट जाए, ये बेसबब बदलाव, आखिर बेकार जाते हैं ! ये जुबाँ के तीर भी बड़े पैने होते हैं दोस्त, निकलते ही मुंह से, ज़िगर के पार जाते हैं ! कबतक बचोगे “मिश्र” तुम विषैले नागों से, वो तो मिलते ही मौका, विष उतार जाते हैं !

Read more
Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.