#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

तुम तो बड़े ज़ालिम, दिले नाशाद निकले ! समझा मासूम परिंदा, पर शय्याद निकले ! सोचा कि तड़पता होगा तुम्हारा भी दिल, मगर तुम तो दिल से, निरे फौलाद निकले ! हसीं ख्वाबों को सजाया था जतन से हमने, मगर ये किस्मत के लेखे, नामुराद निकले ! लगा दीं तोहमतें हज़ार तुमने हम पर दोस्त, पर हम पर लगे इल्ज़ाम, बेबुनियाद निकले ! “मिश्र” आये थे इधर, खुशियों की तलाश में मगर जिधर भी निकले, हो के बर्बाद निकले !

Read more
Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.