#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

न कोई भी रिश्ता, दिल के करीब निकला ! जो भी निकला, वो दिल का गरीब निकला ! बहुत चाहा कि मुस्कराये खुशियों का गुल, मगर खारों में जीना, अपना नसीब निकला !                                कभी चाहा था टूट कर जिसको इस दिल ने, तोड़ा दिल उसी ने, वो इतना ज़लील निकला ! बड़े ही अजीब रंग हैं इस दुनिया के दोस्तो, समझा जिसे अपना, गैरों का अज़ीज़ निकला ! तुमतो बहुत खुश हो दुनिया में आ के “मिश्र”, मगर अपना तो ये नसीब, बद नसीब निकला !

Read more
Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.