#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

रह के भी साथ उनके, न समझ पाए हम ! दिल की कालिखों को, न परख पाए हम  ! भला क्या करें हम उस से गिला शिकवा, जिसको दिल से अपना, न समझ पाए हम !  बड़ा गरूर था हमें अपनी परख पर यारो,   पर उसके दिल की इबारत, न पढ़ पाए हम  ! कहने को तो दुनिया बड़ी हसीन है दोस्तो, मगर जीने का करिश्मा, न समझ पाए हम ! ज़िन्दगी फंसी है फरेबों में इस क़दर कि,     कोई निकलने का रस्ता, न समझ पाए हम  !   शांती स्वरुप मिश्र 

Read more