#Kavita by Pankaj Sharma ,Jhalawar

कुछ आम कुछ खास समसामयिक बातें   आओ करें,गवाहों, कचहरी, इंसाफ के मौसमों की बातें क्यों कर करें,लाचारी,भुख,फुटपाथ के मातमों

Read more

#Kavita by Archana Kochar

दो बूँदें रक्त की करोे दान दबने लगा बन्दूक का घोड़ा                                                                                                                  दिल में दर्द नहीं रहा थोड़ा। किसी की जान

Read more

#Gazal by Ishq Sharma

ज़ालिम किसे मरने की रज़ा देती है बे’गुनाहों को बे’ख़ौफ़ सज़ा देती है •••••••••••••••••••••••••••••••••• खुशियां भी चंद पलो की मेहमां

Read more

#Kavita by Ramesh Raj

डॉ. नामवर सिंह की रसदृष्टि या दृष्टिदोष +रमेशराज ———————————————————————— ‘‘जो केवल अपनी अनुभूति-क्षमता के मिथ्याभिमान के बल पर नयी कविता

Read more

#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

पास होते तो हम शिकायत भी करते ! प्यार ही प्यार में हम बग़ावत भी करते !   न बैठे होते ग़मों में ग़ाफिल इस तरह, कुछ न कुछ तो हम शरारत भी करते !   रूठ जाते तो मनाने का मज़ा लेते यारो,   ज़रुरत पे उनकी हम खुशामद भी करते !   दूर रह कर भला कैसे करें ख़िदमत हम, करीब होते तो हम हिफाज़त भी करते !   गलतियों का क्या सब से होती हैं “मिश्र“, पर उनके लिए तो हम रियायत भी करते !   शांती स्वरुप मिश्र

Read more
Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.