#Gazal by Shanti swaroop Mishra

उनके अंजुमन में आके, हम बदनाम हो गये ! कभी आश्ना थे जो अपने, वो भी अंजान हो गये !   हमने परस्तिश की जिनकी हरवक़्त बा–वफ़ा, उनकी ही ख़ातिर आज हम, पशेमान हो गये !   शिकवा नहीं है कोई उनकी ज़फाओं का यारो, उनकी फ़ितरतों के चर्चे तो, यूं ही आम हो गये !     ये तो हौसला है अपना कि ज़िंदा हैं अब तलक जाने कितनों के चाक दिल, उनके नाम हो गये !     ये मोहब्बत की चालें हम तो न समझ पाए “मिश्र“, जाने कितनों ने जां गंवाई, कितने नाकाम हो गये !  

Read more