#Muktak by Vijay Narayan Agrwal

मुक्तक:– 1 सुनो  ज्ञान  दाता , परम  के  पुजारी, जगे  ज्योति  तुम्हरी,  सदा ब्रह्मचारी, ‘भ्रमर ‘ले के आया  है  श्रद्धालु 

Read more

#Kavita by Dinesh Pratap Singh

बलात्कार की निरंतर घटनाओं पर एक त्वरित टिप्पणी ——————————————————————– नारी पूजन में ,देवों का वास, जो देश बताता था धरती

Read more