#Muktak by Vijay Narayan Agrwal

मुक्तक:– 1 सुनो  ज्ञान  दाता , परम  के  पुजारी, जगे  ज्योति  तुम्हरी,  सदा ब्रह्मचारी, ‘भ्रमर ‘ले के आया  है  श्रद्धालु 

Read more

#Kavita by Dinesh Pratap Singh

बलात्कार की निरंतर घटनाओं पर एक त्वरित टिप्पणी ——————————————————————– नारी पूजन में ,देवों का वास, जो देश बताता था धरती

Read more
Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.