#Kavita by Uday Shankar Chaudhari

थे संस्कार आदर्श जहाँ स्वार्थ नहीं परमार्थ जहाँ देवों संतों की देवभूमि ऋषि मुनियों की तपोभूमि   वो हिंदुस्तान कहाँ

Read more

#Kavita by Rajendra Bahuguna

गद्दारी और खुद्दारी घर  में  ही  गद्दार  बहुत  हैं  घर  में  आग  लगाने को यहां राजनीति  तैय्यार  खडी  है आतंकी 

Read more