#Kavita by Ramesh Raj

रमेशराज की बारहमासीशैली में तेवरी … ———————————————– शीत भरी जनवरी काँपता थर-थर-थर ‘होरी’ बिना रजाई के ‘धनिया’ घर आफत-सी आयी।

Read more