#Kavita by Dr Prakhar Dixit

आत्मनिवेदन ——————- हे दीनदयाल दयानिधि प्रभु भवतारक नाथ कृपा करिए। हे गुणातीत राजीवनयन त्रय ताप विषम अघ आ हरिए।। हे

Read more

#Muktak by Binod Kumar

हास्य कुण्डलियाँ करनी ओछा कर लिया,पतिदेव बोल भैंस। पत्नी क्रोधित हो गई,लगी जताने तैस। लगी जताने तैस,मामला सारा बिगड़ा। खाना

Read more