#Kavita by Ramesh Raj

नवगीत —————————————- अन्जानी पीड़ा में अब तो मन का पोर-पोर जलता है, गहरी होती ही जाती है धीरे-धीरे संशय-खाई। चिंगारी

Read more