#Gazal by Ishq Sharma

तेरी नज़र को मेरी नज़र से देखता हूँ समंदर की गहराई लहर से देखता हूँ •••••••••••••••••••••••••••••••••••••• ज़िंदगी दो पल की

Read more

#Kavita by Bipin Giri

                                                                अन्नदाता है अन्नदाता वो पेट सबका भरता है उसकी पीठ पर लाठी कौन धरता है   वो निकले थे हरिद्वार से दिल्ली दरबार को मिलने मंत्री प्रधान नहीं एक चौकीदार से   साहेब वो किसान थे पर तुम तो सरकार थे क्या जुर्म था उनका जो लाठी चार्ज करा दी   टूटे हाँथ किसी के किसी का पाँव टूटा था हैं हौसले बुलंद उनके पर इकरार टूटा है।   वो आंदोलनकारी थे तुम दमनकारी बन गए चौकीदार नहीं तुम तो गुंडा सरकारी बन गए   दिए हो जख्म जो तुमने वसुधा के योगी को जलाकर खाक कर देंगे वो सरकारी बोली को  

Read more