#Gazal By Ramesh Raj

रुक्न के अनुसार हू-ब-हू बिना मात्रा गिराए एक ग़ज़ल ।। बहर-फायलातुन मफ़ायलुन फैलुन ।। 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 चाँदनी खुशगवार अब तो मिल

Read more

#Gazal By Pradeep Mani Tiwari

बह्र/अर्कान-2122×3-212- फाइलातुन×3-फाउलुन/(संशोधित) ★★★★★★★★★★★★ हुस्न उनका खूबसूरत वो शराबी हो गया। दिल हमारा याद में उनके उन्हीं पे खो गया।-01 जब

Read more