#Balgeet By Ramesh Raj

मिली नहीं ससुराल || ……………………………….. पत्नी को लेने चले मेंढ़कजी ससुराल सर से अपने बांधकर एक हरा रूमाल एक हरा

Read more

#Gazal By Pradeep Mani Tiwari

-साहिल/किनारा ★★★★★ग़ज़ल★★★★★ बह्र/अर्कान-1222×4 ★★★★★★★★★★★★ कभी साहिल नहीं मिलता ख़ुदा की ना इनायत हो। कहें कैसे मुझे आराम जब घर में

Read more

#Gazal By Shanti Swaroop Mishra

दिल के रिश्तों को, आखिर हम भुलाएं कैसे यारो आग अपने ही, घर में हम लगाएं कैसे की बंदिशों ने कस लिया है हम को तो , आखिर अपनों का, तमाशा हम बनायें कैसे न मिले हमें फूल तो खुदाया कोई बात नहीं , पर इन काँटों से, मोहब्बत हम निभाएं कैसे जो मज़िल की तलाश में चुनते हैं ग़लत रस्ते, उनको ईमान की, डगर पर हम चलाएं कैसे अपने जी की जलन तो हम कर भी लें काबू , मगर औरों की, आतिश को हम बुझाएं कैसे वो धरम के नाम पे लूटते हैं रोज़ कितनों को , मुखौटा ऐसे भक्तों के, चेहरे से हम हटाएँ कैसे “मिश्र” दिखते हैं हर तरफ बस फ़ितरती लोग, भला उनकी घातों से, खुद को हम बचाएं कैसे शांती स्वरूप मिश्र [a1] 

Read more

#Kavita By Sunil Gupta

“साथी” “अंतहीन जीवन पथ साथी, साथी संग निभाना। मधुर वाणी संग तुम साथी, अपनत्व को बढ़ना।। छाए मधुमास जीवन साथी,

Read more

#Gazal by Ishq Sharma

किसी से भी कीजिये, बेशुमार कीजियेगा इश्क़ कीजियेगा तो, हद – पार कीजियेगा •••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••• किसी  भी  मौसम  या  बे’मौसम  ही

Read more