#Baalgeet by ramesh raj

|| हम बच्चे ||

———————————

हम बच्चे हर दम मुस्काते

नफरत के हम गीत न गाते।

 

मक्कारी से बहुत दूर हैं

हम बच्चों के रिश्ते-नाते।

 

दिन-भर सिर्फ प्यार की नावें

मन की सरिता में तैराते।

 

दिखता जहाँ कहीं अँधियारा

दीप सरीखे हम जल जाते।

 

बड़े प्रदूषण लाते होंगे

हम बच्चे वादी महँकाते।

+रमेशराज

431 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.