#Lekh By Ramesh Raj

मस्ती का त्योहार है होली होली शरारत, नटखटपन, मनोविनोद, व्यंग्य-व्यंजना, हँसी-ठठ्ठा, मजाक-ठिठोली, अबीर, रंग, रोली से भरा हुआ एक ऐसा

Read more

#Lekh By Ramesh Raj

बड़ी मादक होती है ब्रज की होली ****** कवि रमेशराज 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 तरह-तरह के गीले और सूखे रंगों की बौछार के

Read more

#Lekh By Chandrakanta Siwal

वर्तमान में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की पूर्णता व नारी स्वतंत्रता जिस उद्देश्य के साथ महिला दिवस मनाने का निर्णय हुआ

Read more

#Lekh By Ramesh Raj

शिव-स्वरूप है मंगलकारी कवि रमेशराज शास्त्रों की मान्यतानुसार पावन गंगा को अपनी लटों में धारण करने वाले, समस्त देवों के

Read more

#Lekh by Ramesh Raj

नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त? कवि रमेशराज धीरे-धीरे जिस पाश्चात्य अपसंस्कृति का शिकार हमारा समाज होता जा रहा है,

Read more

#Lekh By Anand Singhnpuri

पतित पावनी महानदी का त्रिधारा संगम महानदी सब जीवों को तारने वाली पाप नाशिनी,अमरत्व का दान करने वाली छत्तीसगढ़ को

Read more

#Lekh by Avdhesh Kumar Avadh

सफाई अभिनय स्वच्छता अभियान जैसे प्रतिष्ठित स्वनामधन्य को हम जैसे दे ठेठ देहाती लोग सफाई के नाम से गुहराते हैं।

Read more

lekh by Ramesh Raj

तेवरी ‘अक्खड़’ अभिव्यक्ति +डॉ.ऋषभदेव शर्मा असन्तोषजन्य आक्रोश तेवरी का मुख्य भाव है, यह किसी भी प्रकार पराजय का लक्षण नहीं

Read more

#Lekh by Ishwar Dayal Jaiswal

¶ अलगाववाद और भारतीय नकारात्मकता ¶ ———————————————————-   उपरोक्त पंक्तियों पर जब दृष्टिगत करता हूं , तब मन में सिख

Read more

#Lekh by Ramesh Raj

नयी विधा के पुरोधा कविवर रमेशराज +डॉ. रामकृष्ण शर्मा ————————————————— साहित्य जीवन का सबसे बड़ा सत्य भी है और शृंगार

Read more

#Samiksha by Avdhesh Kumar Avadh

अवधेश कुमार ‘अवध’ कृति: काव्य माधुरी कृतिकार: माधुरी मिश्रा प्रकाशन: एडुक्रिएशन पब्लिकेशन, नई दिल्ली संस्करण: प्रथम, 2018 मूल्य: रुपये 215/-

Read more

#Pustak Samiksha by Sanjay Verma ‘drishti’

व्यंग्य  विशेषांक ‘यशधारा ‘ शब्दों  से श्रृंगारित भावों की धारा “यशधारा ‘का व्यंग्य विशेषांक के संपादक डा. दीपेंद्र शर्मा ने अंक अप्रैल

Read more

#Pustak Samiksha by Ramesh Raj

डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के प्रपंच +रमेशराज ————————————————————————— डॉ .नामवर सिंह अपनी पुस्तक ‘कविता के नये प्रतिमान’ में लिखते

Read more

#Pustak Samiksha by Kavi Rajesh Purohit

पुस्तक समीक्षा कृति :- अट्टहास प्रधान संपादक :- अनूप श्रीवास्तव अतिथि संपादक:- विनोद कुमार विक्की पृष्ठ:- 56 सम्पादकीय कार्यालय:- 9,गुलिस्तां

Read more