#Lekh by Amit Khare Sevada

युवाओं की भागीदारी से प्रभावी होता सृजन संवाद *************** साहित्य अकादमी की कार्यशालाओं में शामिल होने का  मेरा ये दूसरा

Share This
Read more

#Lekh by Sanjay Verma

बेचारा पापड़  आम आदमी की थाली से गायब हो रहा पापड़ ,मसालेदार से ज्यादा मुनाफेदार हो गया पापड़ । सीधे  बाजार

Share This
Read more

#Lekh by Anita mishra

प्रकृतिक- सौंदर्य और मनुष्य का बढ़ता फासला पर लेख। हमारे आस-पास सब कुछ प्रकृति है जो बहुत खूबसूरत पर्यावरण से

Share This
Read more

#Lekh by Pankaj Prakhar

निजी विद्यालय के शिक्षको में व्याप्त है निराशा ** देश के भविष्य को सजाने संवारने वाला साथ ही देश के

Share This
Read more

#Lekh by Kumar Vijay Rahi

साहित्य_विमर्श बात निकलेगी तो फिर दूर तलक जायेंगी…. पिछले दिनों भाषा-विज्ञान पढते समय इक बात सामने आई के जब रचनाकार

Share This
Read more

#Lekh by Jaya Singh

आतंरिक खासियतों की हिफ़ाजत………! ************************************** आज चलिए एक ऐसे विषय पर कुछ सोचा जाए जो हम सब की जिंदगी का

Share This
Read more

#Lekh by Pankaj Prakhar

“नज़रे बदलो नज़ारे बदल जायेंगे” आपकी सोच जीवन बना भी सकती है बिगाढ़ भी सकती है सकारात्मक सोच व्यक्ति को

Share This
Read more

#Lekh by sameer shahi

आंदोलन अपने आस पास देखें, हर जगह कोई ना कोई आंदोलन चल रहा है. जाट आंदोलन, किसान आंदोलन, पटेल आंदोलन

Share This
Read more

#Lekh by Pankaj Prakhar

भारत का महान सम्राट अकबर नही महाराणा प्रताप थे लेखक :- पंकज “प्रखर” कोटा (राजस्थान) राजस्थान की भूमि वीर प्रसूता

Share This
Read more

#Lekh by Brijmohan Swami

बृजमोहन ‘बैरागी’ का चिंतन —————————————— एक यतार्थ आलोचना – प्रवीण चारण बृजमोहन स्वामी ‘बैरागी’ (जन्म 1 जुलाई सन् 1995) ,

Share This
Read more

#Lekh by Pankaj Prakhar

स्त्री और नदी का स्वच्छन्द विचरण घातक और विनाशकारी ** स्त्री और नदी दोनों ही समाज में वन्दनीय है तब

Share This
Read more

Lekh – BOOK REVIEW OF “कुछ व्यंग्य की कुछ व्यंग्यकारों की ” by M M handra

आत्ममंथन से व्यंग्यमंथन तक समीक्षक : एम. एम. चन्द्रा वरिष्ठ व्यंग्यकार हरीश नवल की पुस्तक “कुछ व्यंग्य की कुछ व्यंग्यकारों

Share This
Read more

#Lekh by Pankaj Prakhar

“सफलता की आधारशिला सच्चा पुरुषार्थ   मानव ईश्वर की अनमोल कृति है लेकिन मानव का सम्पूर्ण जीवन पुरुषार्थ के इर्द

Share This
Read more

#Lekh by pankaj prakhar

सफलता की आधारशिला सच्चा पुरुषार्थ मानव ईश्वर की अनमोल कृति है लेकिन मानव का सम्पूर्ण जीवन पुरुषार्थ के इर्द गिर्द

Share This
Read more