#Gazal by Ankit Gujrati Raqeeb

गैर पर एतबार करता है।

इसलिए ही वो प्यार करता है।।

 

फिक्र उसकी भी तो किया कर तू।

जा तलक जो निसार करता है।।

 

हर कमी से है मेरी वाकिफ जब।

तंज़ क्यों बार-बार करता है।।

 

अहले दिल हर कोई नहीं होता।

रायगां इंतज़ार करता है।।

 

बेवफा जो रकीब लगता है।

प्यार वो बेशुमार करता है।। – रकीब

Leave a Reply

Your email address will not be published.