#Gazal by Anshu Kumari

चांद तारों में खोजता होगा
वो‌ मुझे अब भी चाहता होगा।

फिक्र होते ही हाल मेरा वो
जाने किस किस से पूछता होगा।

वास्ता कुछ नहीं रहा उस से
झूठ सब से वो बोलता होगा।

जानता है मैं आ नहीं सकती
रास्ता फिर भी देखता होगा।

मैं जो करवट बदल रही हूं यहां
क्या वहाँ वो भी जागता होगा।

शब की तनहाईयों में अक्सर ही
नाम मेरा पुकारता होगा।

मेरी अँशु सही सलामत हो
ये दुआ रब से मांगता होगा।
अंशु कुमारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.