#Gazal by Anil shukla

इश्क मे रूसवा तो हम जरूर हो गये ।
मेरे अफ़साने मगर मशहूर हो गये ।।

या खुदा मुझको कयामत मे बख्शना।
इश्क मे मुझसे बड़े कुसूर हो गये ।।

उनसे मिलकर हो गया रब पर भरोसा ।
फैसले किस्मत के अब मंजूर हो गये ।।

रात मे उसने जो घूंघट को उठाया।
सब सितारे चांद भी बेनूर हो गये ।।

छू लिया पांव से उसने जो अनिल ।
राह के पत्थर भी कोहिनूर हो गये ।।

-अनिल शुक्ल

Leave a Reply

Your email address will not be published.