#Gazal by Prakash Prabhakar

जा तुझे  मौका  इक  और  मुझे अाजमाने  का  दिया।

कब से हूँ आबिद तेरा मैंगौर  ये  फरमाने  को दिया।।

 

तेरा आशिक  हूँ   मैंतेरे  इश्क   का  ही  तलबगार  हूँ।

मिट के रह  जाए न  अरमाँतुझे   निभाने  को  दिया।।

 

होश  में  रहते हैं  कहाँ दिल  का  सौदा  जो करते  हैं।

दिल-ए-बिमार   को  फिर  तुझे    तड़फाने  को   दिया।।

 

मिजाज उनका  भी कुछ  गैरों  की  तरहा है  आजकल।

मुक्कद्दर  को  ही अब उन्हें  यूँ  आसी  बताने को दिया।।

 

कारगर  होती  नहीं  अब  दवा  कोई   इश्क-ए-जहाँ  में।

मरहम  तक  मिला नहीं  तुझे जख्म छुपाने  को  दिया ।।

 

                                         

फना में शामिल अब इक चिज हूँ , खुदा की दुनियाँ  में ।

तुझको जाँन मेरी  मुहब्बत में ये दिल सजाने  को दिया।।

 

इशरत-ए-जँहा,आरजू-ए-सुखन आज भी हावी है काश

कम ना होगी रौ जिदंगी की, तुझे होश में लाने को दिया।।

आसी— बेकार की चिज ,आबिद–पुजारी,इशरत-ए-जहाँ—संसार के आनन्द,आरजू-ए-सुखन- सुख की अभिलाषा

 

                                                प्रकाश प्रभाकर

Leave a Reply

Your email address will not be published.