#Gazal by SHANTI SWAROOP MISHRA

ये अजीब सा ही, मौसम हो चला है आज कल !
आदमी का धीरज, ख़त्म हो चला है आज कल !

दिल में तो ख्वाहिशें सजी हैं सब कुछ पाने की,
मगर आदमी क्यों, बेदम हो चला है आज कल !

जिधर भी देखते हैं उधर सियासत का खेल है,
फिरकापरस्ती का, मौसम हो चला है आज कल !

सियासत के आँगन में तो हो सकता है कुछ भी,
जाने क्यों आदमी, बेशरम हो चला है आज कल !

वो भी दिन थे कि लोग मरते थे एक दूजे के लिए,
मगर वो जमाना अब, ख़त्म हो चला है आज कल !

शांती स्वरूप मिश्र

421 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.