#Gazal by Dharmender Arora

पाँडवों को प्रभु की दुआ मिल गई!
साथ उनकी निराली वफ़ा मिल गई!!
****************************
तीरगी चीरने आज जुगनू चले!
रोशनी की उन्हें जब सदा मिल गई!!
****************************
हर घड़ी संग मिलके रहा जो बशर!
बात उसकी सभी से जुदा मिल गई!!
****************************
भाव के पारखी हैं मेरे ये नयन!
नम निगाहों में हमको हया मिल गई!!
****************************
इस कलम ने किया है अनोखा असर!
बिन कहे शारदे की दया मिल गई!!
****************************
रास्ता नेकियों का हमें जब मिला!
फ़िर मुसाफ़िर सुहानी शफ़ा मिल गई!!
****************************
धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”
(9034376051)

धर्मेंद्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”
(9034376051)

Leave a Reply

Your email address will not be published.