#Gazal by dharmender arora

मुकद्दर जहाँ में उसी का हुआ है!
खुद पे ही जिसने भरोसा किया है!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
जो भी चला है कांटों के पथ पर!
फ़ूलॊ का ही फ़िर बिछौना हुआ है!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
हर इक खुशी को जिसने है पाया!
गमों का उसी ने ही बोझा सहा है!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
चखा हो जिसने जीवन के विष को!
आखिर उसी ने ही अमृत पिया है!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
हर दर्द जिनकी दवा बन गया हो!
ज़ख्मों को अपने उसी ने सिया है!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
अपना इरादा जो मज़बूत रखते!
बुलंदी को फिर तो उसी ने छुआ है!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”
9034376051

235 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *