#Gazal by Dharmender Arora

मेरी हिम्मत देखकर जब रास्ते चलने लगे !
मंज़िलों के दीप हर सू खुद ब खुद जलने लगे !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
हसरतें दिल की जगी सब थी निहां जो अब तलक !
इन निगाहों में शगुफ्ता ख्वाब फ़िर पलने लगे !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
गैर मुमकिन ये गज़ल है कह रहे थे लोग जो !
आज़ अपना सर झुकाए हाथ वो मलने लगे !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
शायरी की जब मिरे मन में लगन सी  लग गई !
आँखों आँखों मे हमारे रात दिन ढलने लगे !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
हौंसले की जोत लेकर जब मुसाफ़िर चल दिया !
दौर गर्दिश के सभी फ़िर दूर से टलने लगे !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफिर”
9034376051

78 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.