#Gazal by Dharmender Arora Musafir

इक निराला सा सफ़र है ज़िंदगी!
प्रीत की खिलती डगर है ज़िंदगी!!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
आज में जीना हमेशा साथियों!
कल से बिल्कुल बेखबर है ज़िंदगी!!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
राह उजली या अँधेरी पग धरो!
जीत का मीठा समर है ज़िंदगी!!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
बस इरादों को बना फौलाद लो!
आरजू से कब गुजर है ज़िंदगी!!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
मिट गयी दिल से अगरचे हसरतें!
फूल जैसी फ़िर बसर है ज़िंदगी!!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

 

धर्मेंद्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”

Leave a Reply

Your email address will not be published.