#Gazal by Ishq Sharma

वेलेंटाइन डे स्पेशल

“””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

मैं तारीख़ ऐ मुहब्बत टलने नही दूँगा।

दूसरी पटाऊंगा कमी खलने नही दूँगा।

“””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

दर्द मैं अपने सारे शहर को सुनाऊंगा।

तुझे किसी और को छलने नही दूँगा। “””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

वक़्त के साथ तू बदलती है मुहब्बत।

तेरी कालाबाज़ारी मैं चलने नही दूँगा। “””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

उजियारे मेरे इश्क़ को अँधेरे में धकेला।

किसीभी सूरत ये सूरज ढ़लने नही दूँगा। “””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

बहुत दी उदासी अब नफ़रत है तुझसे।

बिमारी तेरे इश्क़ की चलने नही दूँगा। “””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

बहुत बहाया था तेरी बेबसी में आँसू।

तुझे भी मैं हरगिज़ सम्भलने नही दूँगा। “””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

तू आयी ही क्यूँ थी जीवन में मेरे।

औरों के जीवन से खेलने नही दूँगा। “””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

मेरी बर्बादी का खूब ज़श्न मनाया तूने।

बेवफ़ा तू देखना तुझे मचलने नही दूँगा। “””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

बेख़ौफ़ मेरी आज़ादी को कैद किया तूने।

तुझे मैं नर्क में भी टहलने नही दूँगा। “””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

शिकवे गिले दूर तूने तो खबर नही ली।

मीठी ज़ुबाँ पे किसीको बहलने नही दूँगा। “””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

दिया जो भी बेहिसाब दिया तुझको।

चुकता किये बिना हाथ मलने नही दूँगा। “””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

शहनाई तेरे घर और मातम मेरे हिस्से।

खुशियों को तेरे दामन में पलने नही दूँगा। “””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

© इश्क़शर्माप्यारसे📲9827237387

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.