#Gazal by Ishq Sharma

ये मैं कहता रहा, दिल लगाना नहीं

सारे सुनते रहे, कोई माना नहीं

“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

इश्क़ पाक तुम्हारा, रहा होगा कभी

बातें दिल की सुने, ये ज़माना नही

“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

हर किसी को मिली, मुहब्बत कहाँ

इश्क़ के मारो का, ठिकाना नही

“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

हर ख़्वाब में मैंने, देखा था उसे

मैंने जाना कि उसने ये जाना नही

“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

अब उसका पता, लापता हो गया

ढूँढकर के उसे, ठोकरें खाना नही

“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

मैं जो कहता हूँ  मान जाओना तुम

दर्द में इश्क़ के खुद को सताना नही

“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

दिल में खुदके तुम खुद बसर करलो

ये तुम्हारा ही अपना है बेगाना नही

“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

© इश्क़शर्माप्यारसे✍📲9827237387

Leave a Reply

Your email address will not be published.