# Gazal by Jasveer Singh Haldhar

ग़ज़ल

——–

सही इंसान चुनने में रिवाजों का दखल होगा ।

वहीं पर रात बीतेगी जहां पर अन्न जल होगा ।

भरोसा है नही जब एक पल का एक लम्हे का,

बड़ा मुश्किल यकीं होना कहाँ पर कौन कल होगा ।

भटकता फिर रहा हूँ मैं मुझे मालूम है यारो ,

किसी के काम आये बिन नहीं जीवन सफल होगा ।

नहीं पहचान पाया आदमी किस्मत लिखा है क्या ,

मगर लेखा हमारे कर्म का बिल्कुल अटल होगा ।

जहाँ कोई नही होगा हमारी आत्मा होगी ,

हमारी हर मुसीवत का हमारे पास हल होगा ।

सफाई देश से पहले अगर संसद कि हो जाये ,

तभी” हलधर” सफल होगा सही वादा अमल होगा ।

हलधर-9897346173

Leave a Reply

Your email address will not be published.