#Gazal by Kamlesh Srivastava

मैं गुज़रा नहीं हूँ मैं लौटूंगा फिर से ।

मैं तुमको किसी दिन पुकारूंगा फिर से ।

 

किसी दिन बनूँगा तेरा आईना मैं ।

तेरा अक़्स पलकों में भर लूंगा फिर से ।

 

वो रिश्ते जिन्हें वक़्त बिखरा गया है ।

उन्हें भी किसी दिन समेटूंगा फिर से ।

 

मेरी ज़िन्दगी तू न मायूस होना ।

तुझे टूट कर मैं ही चाहूंगा फिर से ।

 

मैं गूंगा नहीं हूँ सुनो हुक्मरानो ।

अगर वक़्त आया मैं बोलूंगा फिर से ।

 

मुझे कोई बंदिश गवारा नहीं है ।

मैं रस्मों की ज़ंजीर तोडूंगा फिर से ।

 

मेरा है ख़ुदा से मुहब्बत का रिश्ता ।

मैं पल भर में उसको मना लूंगा फिर से ।

 

कमलेश श्रीवास्तव ।

094250 84542

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.