#Gazal by Karan Sahar

पतंगों में लटकती डोरी सा हूँ,

पेचे लड़वाती हैं तेरी उंगलियाँ मुझ से ।

 

सिर्फ रोता ही नहीं वो बहुत रोता है,

आधी बातें छुपाती हैं तेरी चुगलियाँ मुझ से ।

 

#करन_सहर

194 Total Views 6 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.