#Gazal by Krishan Lal Mast

” ग़ज़ल”

जरखे़जी धरती बी$ उगदा।।

कल्लरी धरती पवै सड़ी जन्दा।।

बी$ वी पौंगरै,फसल बी हौंदी।

सच्च दे खेतर,बी$ जो पौंदा।।

दिल उंदे नै रौशन हौंदे।

जिन्दे दिलें इच यार बसेंदा।।

जग-मग,जग-मग,चेहरे जगदे।

दिलें ‘च जिन्दे,यार बसेंदा।।

दिनें जागदे रातीं-नि-सौंदे।

अक्खियें’च जिन्दियें यार बसेंदा।।

दिल जो लांदा,यार-दे-कन्नै।

पट्ट चीरियै तोड़ निभांदा।।

यार-दा-भरदा पानी जो मित्तरा।

“मस्त”सिंहासन ख़ीरी बौंदा।।

तुंदा “मस्त”

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.