#Gazal by Krishan Lal Mast

कृष्ण लाल “मस्त”

मो०न०:-9419786373

“ग़ज़ल”

छोड़ सारे सियापे गल्ल कर तूं शब्द दी।।

जिस नैं रौंहनां ए खीरी गल्ल कर उस शब्द दी।।

शब्द गावै घ’रै इच जो ओ तारै घूंणियां।

एह् निशानी ए पक्के साध ते उस शब्द दी।।

शब्द अग्गैं नि टिकदे रिद्धयां ते सिद्धियां।

कोई ग्यानी-ध्यांनी सार जानैं शब्द दी।।

चमतकारी नि होंदा शब्द योगी मित्तरा।

बिज्जा रौंहदा र’ज़ा इच भगति करदा शब्द दी।।

“मस्त” गी मत्तू जानैं दुनियां सारी मत्तू ऐ।

साधना करदा रौंहदा”मस्त”सच्चे शब्द दी।।

तुंदा:-“मस्त”

Leave a Reply

Your email address will not be published.