#Gazal by Mamchand Agrwal Vasant

……..गजल……

गुनगुनाना चहिए हर हाल में।
मुस्कुराना चाहिए हर हाल में।

चाँद क्यों आकाश में,इसको मिरे
घर बुलाना चाहिए हर हाल में।

झील में देखी हैं हमने मछलियाँ
चल,फँसाना चाहिए हर हाल में।

रंजो गम सारे भुला कर ,यार से
दिल मिलाना चाहिए हर हाल में।

वो मिरे घर आयगा,मुझको यकीं
बस बहाना चाहिए हर हाल में।
-वसंत जमशेदपुरी,09334805484

Leave a Reply

Your email address will not be published.