#Gazal by Roopesh Jain

मैं क्या मेरी आरज़ू क्या

मैं क्या मिरी आरज़ू क्या लाखों टूट गए यहाँ

तू क्या तिरी जुस्तजू क्या लाखों छूट गए यहाँ

चश्म-ए-हैराँ देख हाल पूँछ लेते हैं लोग मिरा

क़रीबी मालूम थे हमें हम-नशीं लूट गए यहाँ

फूलों की बस्ती में काँटों से तो न डरते थे हम

सालों से हो रखे थे इकट्ठे ग़ुबार फूट गए यहाँ

वक़्त के साथ बदल जाने दो ये मज़हबी रिश्ते

बे-ख़लिश हो जियो जाने कितने रूठ गए यहाँ

क़ाबिल-ए-इम्तिहाँ जान सब्र परखते हैं मिरा

सख़्त मिज़ाज है ‘राहत’ वर्ना लाखों टूट गए यहाँ

‘डॉ रूपेश जैन ‘राहत’

ज्ञानबाग़ कॉलोनी, हैदराबाद

Leave a Reply

Your email address will not be published.