# Gazal by Seema Pathania Katoch

चेहरे बदल कर घूमने का है यहाँ चलन

अपना मुखौटा भी आप साथ रखिये।।

 

दुश्मनों की तो जाहिर होती है जलन

अपने दोस्तों पर भी एक निगाह रखिये।।

 

बढा चढा कर कहने का खूब है प्रचलन

आप भी तो अपने मुहँ में ज़ुबान रखिये।।

 

गहरी होती है अपनों के ज़ख्मों की चुभन

जरा संभल संभल कर पाँव रखिये।।

 

अपने ही दम पर तय  होती डगर कठिन

कुछ खुद पर भी तो एतबार रखिये।।

सीमा कटोच

प्रवक्ता भौतिकी

Leave a Reply

Your email address will not be published.